October 30, 2020

Made In Bihar

बिहार की मिट्टी की सुगंध

Laddoo

Bihar-The land of Buddha

वैसे तो भारत में कई प्रकार की मिठाईयां मशहूर हैं उनके स्वाद के दीवाने दुनिया के कोने-कोने में मौजूद हैं। भारत के सभी मिठाइयों में लड्डू एक ऐसा मिष्ठान है जिसे देखते ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है लेकिन बिहार के मनेर के लड्डू की बात ही निराली है। भारत में लड्डू का मकबूलियत इसलिए भी ज्यादा बढ़ जाती है क्योंकि इसका प्रयोग पूजा-अनुष्ठानों में अधिक होता है। घर में किसी तरह का शुभ कार्य हो वो लड्डू के बिना संपूर्ण नहीं होता है।The world famous Maner ke laddoo

हनुमान जी और गणेश जी की पूजा में लड्डू का खास महत्व होता है। मनेर का लड्डू अपनी स्वाद, मिठास और देशी घी के सुगंध के कारण सभी मिठाइयों में अपनी खास और अलग पहचान बनाता है। पटना से करीब से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मनेर के लड्डू सिर्फ भारत और बिहार नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर हैं। देश के विभिन्न हिस्सों से लोग यहां से लड्डू खरीदकर दूसरे देशों में सौगात के रूप में भेजते हैं।

authentic maner sweets shop.

मनेर के लड्डू के इतिहास की बात करें तो यहां के स्थानीय बताते हैं कि पहली बार मुगल बादशाह शाह आलम इमली के पत्ते के दोने में अपने साथ ‘नुक्ति के लड्डू’ लेकर दिल्ली से मनेर आए थे। यहां के  ख़ानक़ाह के गद्दीनशीं संत और अन्य लोगों को यह लड्डू बेहद पसंद आया जिसके बाद बादशाह शाह आलम दिल्ली के कारीगर साथ फिर से मनेर आए।

इन कारीगरों ने स्थानीय लोगों को लड्डू बनाने का तरीका सिखाया और धीरे-धीरे यहां के कारीगर इतने निपुण हो गए कि बाद में यह लड्डू ‘मनेर के लड्डू’ के नाम से विश्व विख्यात हो गया। लगभग सौ साल पुरानी दुकान मनेर स्वीट्स के मालिक बताते हैं कि अंग्रेजों ने इस लड्डू का स्वाद चखकर इसे वर्ल्ड फेम लड्डू का प्रमाण पत्र दिया था।

आज भी इस लड्डू को खाने वाले जमकर तारीफ करते हैं। दूर-दूर से लोग इस स्वदिष्ट लड्डू का स्वाद लेने मनेर आते हैं। इस लड्डू से सिर्फ मनेर ही नहीं पूरे बिहार की पहचान उभरकर सामने आती है।

You may have missed